Bihar Train Accident: बिहार के बक्सर में ट्रैन हादसा 4 लोगों की मौत, कई घायल

Bihar Train Accident: नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस के बुधवार की रात बेपटरी होने से मरने वालों में एक मां-बेटी, एक अन्य महिला और एक पुरुष शामिल थे। पटरी में प्रथम दृष्टया हादसे का कारण क्रैक बताया जा रहा है। हादसे में 200 यात्री घायल हुए, 75 गंभीर रूप से।

सभी अचानक एक तेज आवाज से घबरा गए। किसी अनहोनी की आशंका ने आंखों की नींद उड़ा दी। जब ट्रेन दुर्घटनाग्रस्त हो गई, वहाँ हड़कंप मच गया। हर जगह चीख-पुकार। घुप नीचे अंधेरा समाज और मानवता यहां, आसपास के गांवों से भी लोग दौड़ते-हांफते दिखे। Bihar Train Accident

बोगियां बेपटरी हो गईं

बोगियां बेपटरी हो गईं। एक कोच की स्थिति थी कि वह डाउन लाइन से अप लाइन पर वापस आ गई थी। घटनास्थल रघुनाथपुर स्टेशन के पश्चिमी हिस्से में था। रात हो चुकी थी, आसपास के बाजार भी बंद हो चुके थे, लेकिन दुर्घटना का समाचार हर जगह फैल गया। यहां समाज और मानवता का दर्शन दिख रहा था, जब आसपास के पंद्रह-बीस किलोमीटर दूर गांवों से भी लोग वहां पहुंचने लगे। Bihar Train Accident

मदद के लिए दर्जनों लोग दौड़े।

दियारा क्षेत्र से भी लोग सहायता के लिए आए थे। भरखर, रहथुआ, कांट, कैथी, ढोढनपुर, बाबूडेरा आदि गांवों से बहुत लोग आए थे। घायलों की आंखें आशा से भर गईं। प्रशासनिक टीम मुख्यालय पहुंची लगभग घंटे बाद। तब तक ग्रामीण लोग यात्रियों को निकालने में लगे हुए थे। यहां घुप अंधेरे के कारण राहत कार्य मुश्किल हो रहा था, इसलिए ग्रामीणों ने पास से एक जेनरेटर लाकर वहां रोशनी दी। एक व्यक्ति पानी लेकर दौड़ रहा है और दूसरा बच्चों को बाहर निकाल रहा है। कोई घायलों को एंबुलेंस पर चढ़ाने में मदद करता है। जो कुछ हो रहा था, कर रहे थे। Bihar Train Accident

एक ओर लोगों को बचाने का प्रयास था और दूसरी ओर कुछ लोग आपदा में अवसर खोज रहे थे। उस व्यक्ति पर लोगों की नजर पड़ी, जो किसी यात्री का बैग लेकर भाग रहा था। बैग उसके हाथ से छीनकर पुलिस को सौंप दिया। उसके पास जेवर थे।

पुलिस ने उसे धमकाकर छोड़ दिया। सभी घायलों को बचाने में लगे थे, लेकिन वह आदत से लाचार था। फिर उसे सामान साफ करते देखा गया। इस बार उसकी जमकर पिटाई हुई। यह भी एक दृश्य था। यात्रियों का सामान बिखरा हुआ था, पटरियां उखड़ी हुईं थीं और बोगियां पलटी हुईं थीं। Bihar Train Accident

आधी रात मे बहुत भीड़ जमी थी

यह दुर्घटना की भयावहता को व्यक्त कर रहे थे। रात गहरी होती गई। १२.३० बजे तक भीड़ जारी रही। दानापुर की अंजू देवी वाराणसी से ट्रेन पर चली थीं। उन्हें क्या पता था कि कुछ समय बाद यह दुर्घटना होने वाली है? उनके परिवार भी शामिल था। ट्रेन में बहुत लोग थे, उन्होंने कहा। वे गलियारे में अपनी बेटी और पोते-पोतियों के साथ स्लीपर कोच में खड़ी थीं। दूसरे यात्री ट्रेन पर गिर पड़े जब अचानक एक तेज झटका लगा, और रुकते ही सभी एक-दूसरे पर पांव रखते हुए कूदने लगे। Bihar Train Accident

वे भय से कांप रही थीं। जैसे-तैसे बाहर निकलीं। एंबुलेंस पहुंच चुकी थी। घायलों का प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, रघुनाथपुर में इलाज किया जा रहा था। बक्सर भी ले जाया जा रहा था। गंभीर रूप से घायल हुए यात्रियों को पटना भेजा गया। बक्सर स्टेशन पर लोगों की भीड़ हो चुकी थी। ट्रेनों का परिचालन रोक दिया गया था। रात के एक बजे तक सायरन बजाती एंबुलेंस दौड़ रही थी, हालांकि इस समय तक स्थिति बहुत हद तक नियंत्रित की जा चुकी थी Bihar Train Accident

Rohit Sharma ने जड़ा शानदार शतक, वर्ल्ड कप में बनाया नया कीर्तिमान और तोड़े सभी रिकार्ड

Leave a comment