Bihar jati janganana: अखिलेश यादव का बड़ा बयान बिहार की जातीय जनगणना को लेकर ये कहा

Bihar jati janganana: देश में जातीय जनगणना लगातार चर्चा में रहती है। और इससे आप राजनीति में आगे बढ़ गए। इस जाति जनगणना को लेकर कांग्रेस पार्टी, समाजवादी पार्टी बिहार की सरकार और दिल्ली की सरकार के साथ-साथ अन्य विपक्षी पार्टियों से भी अधिक गठबंधन है। सब इसके पक्ष में खड़े हैं। इस बीच, आपको बता दें कि अखिलेश यादव ने बिहार जाति जनगणना का समर्थन किया है। नीचे खबर में पूरी जानकारी मिलेगी।

बिहार की जाति जनगणना को लेकर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने एक बयान दिया है। उनका कहना था कि जब जनता जानती है कि हमारी जाति के कितने लोग हमारे समर्थन में हैं, तो जाति उनका भरोसा बनाती है। और एक दूसरे के प्रति समर्पित होकर कम से कम कदम मिलाकर चलते हैं, यही नहीं अखिलेश यादव ने कहा कि इससे प्यार मोहब्बत बढ़ता है और नफरत दूर होती है। Bihar jati janganana:

यही नहीं, अखिलेश यादव ने केंद्र सरकार को घेरते हुए कहा कि देश भर में जातीय जनगणना की जानी चाहिए ताकि कम से कम लोग अपनी जाति के बारे में पता चले।

अब हम आपको बिहार में क्या हो रहा है बता देंगे। बिहार में गांधी जयंती पर जातिगत जनगणना हुई। इस पर बहस चल रही है हम आपको बता देंगे कि बिहार में 13 करोड़ लोग रहते हैं। अब वह वहीं बिहार में जाती है। जनगणना के परिणामों को देखते हुए, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और कांग्रेस पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी सहित विपक्षी नेताओं ने इस जाति की जनगणना का समर्थन किया। इस दौरान अखिलेश यादव ने कहा कि देश की राजनीति का भविष्य अब पड़ा का होगा। Bihar jati janganana:

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि जाति जनगणना पूरे देश में होनी चाहिए, न कि सिर्फ एक राज्य में, जिससे कम से कम यह पता चल सके कि किस जाति के लोग हैं। और संघर्षों से बचने और देश को सुंदर, स्वच्छ और प्रेमपूर्ण बनाने के लिए यह जातीय जनगणना बहुत महत्वपूर्ण है। जातिगत जनगणना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह न सिर्फ 85 और 15 के संघर्ष का कारण बन सकती है, बल्कि सहयोग के नए रास्ते भी खोला सकती है। Bihar jati janganana:

PPF Interest Rate: पीपीएफ निवेशकों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी: जानें

Leave a comment